My Views Today


1 May 2017

Shrinking space for the Left, Liberal and Socialists

Chanchal Chauhan

Some friends and well-wishers of the Left with ‘Marxist Conscience’ now-a-days bitterly criticise the functioning of the communist Parties in general and the CPI(M) in particular and hold the undemocratic functioning of the Party responsible for the ‘marginalisation’ of the Left in India. A Communist Party functions on the fundamental norms of organisational structure’ known as ‘democratic centralism’ and ‘inner party democracy’. Like all the middle class well-wishers with ‘Marxist conscience’, we too feel concerned over the shrinking space for the Communists in Indian political arena. Like all well-wishers and many intellectuals and sympathisers we too wish to know the root cause of this situation. Some of them are in the grip of idealism that hampers the scientific vision to look at the objective reality. They put the blame fully on

----------------------------------------------------

Dated 14 February 2017

Post-Truth in Indian Society

Chanchal Chauhan

This is an age where truth does not prevail. People trust falsehood, false promises that are never kept. Political leaders brazenly tell lies, 'eating sugar' but say, 'no papa'. The leadership that is ruling India resorts to falsehood, serving the interests of the foreign and Indian capitalists and international finance capital, but declare that they are doing all for the poor. They all the time make new promises, The PM declared on November 8, 2016 that currency notes of 500 and 1000 denomination would be illegal but could be exchanged at the Banks and post offices till the end of December 2016. This proved to be a lie. After a short span of time, the exchange was denied and old notes were allowed to be deposited in the Bank accounts. That order was also repealed, but had to undo it under pressure. The prime minister told the public that



---------------------------------------------------------------


Dated 20 July 2016

Greek Tragedy knocking at India’s door

Chanchal Chauhan 

Most of our people including even the economists and academics would laugh at the warning I am blowing here that India is heading towards a Greek type economic collapse by the year 2018. Even Raghu Ram Rajan, the RBI governor once had expressed his view without mincing words that the crisis was worse than it was in the 1930s and cautioned about the impending negative economic pace in India notwithstanding the rosy picture drawn every day by our PM and FM who never shirk in their duty of inventing new ‘Jumla’ every now and then. Some body (perhaps Nitish Babu) had rechristened the BJP as ‘Bhartiya Jumla Party’ commenting on what the BJP president termed the promise of crediting Rs.15 lakh by Narendra Modi to the account of every Indian as a ‘jumla’. After coming to power on the basis of ‘jumlas’ the BJP leadership did not stop with that practice and

Click to Read the full article

--------------------------------------------------------------

20 June 2016

जाति उन्मूलन परियोजना क्या हो

चंचल चौहान

भारत भूमि पर जाति नामक संस्था की जड़ें इतनी गहरी हैं, कि जाति के खात्मे के लिए तमाम संतों, सूफियों, समाज सुधारकों, कवियों, लेखकों के उपदेशों और सामाजिक आंदोलनों के बावजूद ये जड़ें उखड़ने के बजाय और अधिक मज़बूत होती गयी हैं। दर असल, आदिम समाज के बाद जब निजी संपत्ति का अधिकार हासिल करके मानव समाज वर्गविभाजित हो गया तो नाबराबरी के दौर में प्रविष्ट हुआ, फिर उस नाबराबरी को बनाये रखने के लिए तरह तरह की दार्शनिक व धार्मिक व्यवस्थाएं संपत्तिशाली वर्गों ने ईजाद कीं। इन्हें मैं एक नाम से चिह्नित करता रहा हूं, वह है : क्लासीकल विचारधारा

                                                                                               For full article click here

----------------------------------------------------------------------------------------------------

Monday November 2, 2015


‘Pratirodh’ (Resistance) at New Delhi

Chanchal Chauhan

New Delhi Nov.2 : Yesterday it was the birth anniversary of rationalist Narendra Dabholkar, who was murdered in Pune in August 2013. So writers, artists and intellectuals from all sides were coming to Mavalankar Hall to join the ‘Pratirodh’ programme. At  2.00 p.m. a huge presence of writers, artists, scientists, historians and cultural activists was witnessed at the  Hall here who came to express their solidarity with the protest movement that erupted after the brutal murder of eminent Kannada writer, prof. M. M. Kalburgi and when, as an expression of anger, Uday Prakash, an eminent Hindi writer returned his Sahitya Akademi award. And then, Nayantara Sehgal too returned her award. The angst expressed by writers      Click for full text


  ----------------------------------------------------------------------------------------------

Tuesday, May 26, 2015


One Year of Modi Sarkar : Saal Ek, Sawaal Anek

Chanchal Chauhan

My dear Modi ji

            This is an open letter from a common citizen of India. Your BJP is past master in coining attractive slogans to hoodwink people that you call ‘Janata Janardan’. The ground reality is that the one year of your rule has done nothing to alleviate poverty or for ‘sab ka vikas’. Even your own MP from Balia has said that not even one kilometre road has been built in one year. Almost all the MPs including Rajnath Singh and MLAs of your Party in the BJP ruled states and UP have failed to utilise the funds allocation as shown on the Rajya Sabha TV programme. We all know that no foundation of even one new smart city has been laid in any part of our country, only castles in the air. Do you think that you will create 300 smart cities in one go just by slogans and rhetoric? Not 300 smart cities, can you build even 3 smart cities
                                                                                                                    Click for full text

-------------------------------------------------------------------------------------------------

Tuesday, March 10, 2015

अरुण जेटली के बजट की असलियत

चंचल चौहान

मेरा एक विद्यार्थी दलित परिवार से है, सिविल सर्विस की तैयारी में जुटा है, मेरे पास पढ़ाई में मदद के लिए आता रहता है। इस साल के बजट पर मेरी राय जानने के मकसद से वह आया। वह बोला, ‘सर अरुण जेटली साहब ने इस बजट में मध्यवर्ग पर टैक्स का बोझ नहीं डाला, यह तो अच्छा किया, और भी काफी योजनाओं पर पैसा ख़र्च करने का प्रावधान भी रखा, इसलिए कुल मिला कर यह बजट अच्छा ही कहा जायेगा, आपकी क्या राय है, इससे भारत का विकास सुनिश्चित हो सकता है?.

मैंने कहा, गरीबदास, पहले तो यह समझना ज़रूरी है कि        for complete article click here  

_________________________________________________________________________________

26 February 2015

भूमिअधिग्रहण अध्यादेश पर इनकी भी सुनो

चंचल चौहान

हमारी पड़ोसन प्राध्यापिका जी आज फिर हमारे यहां आ गयीं, पता नहीं क्यों वे मोदी सरकार से बिला वजह खफ़ा हैं। वे अन्ना हजारे के आंदोलन से वापस लौटी थीं, अन्ना हजारे ने मोदी सरकार के किसानविरोधी जनविरोधी भूमिअधिग्रहण अध्यादेश को ले कर मोदी सरकार की असलियत खोलने के लिए जंतर मंतर पर दो दिन का धरना दिया, सो वे भी गयीं थीं और आ कर उन्होंने अपने मन की बात हमसे कह डाली। वे बोलीं, देखिए भाई साहब, मोदी ने 
                                    full article click here


______________________________________________________________________________________

New Delhi, 8 Decembert 2014
व्यंग्य

काला धन  : पहले पीएम को वापस लाओ

हमारे पड़ोस में एक कालेज की प्राध्यापिका जी रहती हैं जो पता नहीं क्यों हमारे महान देश के महान पीएम से बहुत नाराज़ रहती हैं। उन्होंने नारीविमर्श पर बहुत कुछ पढ़ रखा है, शायद इसीलिए वे हर समय हमारे पीएम में कुछ न कुछ नुख्स ढूंढ़ती रहती हैं। वे कहती हैं कि ‘हमारे पीएम ने सात फेरे ले कर जिस महिला से ब्याह रचाया, अग्निदेवता को साक्षी मान कर जो जो वायदे किये, वे कतई नहीं निभाये। यह कैसी उनकी भारतीय संस्कृति है?’ मुझे लगता है शायद इसीलिए वे हर समय हमारे पीएम पर छींटाकशी करती रहती हैं। एक दिन उन्होंने एक व्यंग्य ही लिख डाला और मुझे थमा गयीं, कि इसे देखो, मैं क्या देखूं, आप लोग देखें, उनके उसी व्यंग्य को ज्यों का त्यों यहां पेश कर रहा हूं :

‘‘हमारे महान देश के महान पीएम इधर न तो लोकसभा में दिखते हैं और न दिल्ली में। उनकी पत्नी से लोग पूछते हैं तो भी कुछ जवाब नहीं मिलता! बतरा जी जो बतरस के धनी अबुद्धिजीवी हैं, उन्होंने बताया कि वे अपनी सखी से कह रही थीं कि ‘काला धन लेने गये, नहिं अजरज की बात / पर चोरी चोरी गये यही बड़ा व्याघात! सखि वे मुझसे कह कर जाते’! बतरा जी ने

                                                                             See full satire at Hindi Newsclick website
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------                                                                                                                                     

लो एक और साध्वी मंत्री का गीता-ज्ञान____________________________________________________________________________

Date 8-12-2014

लो एक और साध्वी मंत्री का गीता-ज्ञान 

भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्ववाली आजकल की केंद्र सरकार ने अवाम को जो सुनहरे सपने दिखाये थे, वे अभी सपने ही बने हुए हैं, लोग काले धन में से पंद्रह लाख रुपये मिलने की आस लगाये बैठे हैं, उधर महंगाई बढ़े जा रही है, सरकार जब डीज़ल पर एक्साइज़ ड्यूटी बढ़ा रही है तो हर चीज़ महंगी हो ही जायेगी, इज़ारेदारों और बड़े व्यापारियों को इसका पूरा फायदा मिल रहा है, उनके तो ‘अच्छे दिन’ आ ही गये, जनता भूखी नंगी रहे तो सरकार की बला से। जनता में क्रोध पनपना शुरू हो, उससे बचने के लिए मोदी सरकार के नाकारा मंत्री कोई न कोई ऐसा बयान दे देते हैं जिससे हंगामा शुरू हो जाये और असली मुद्दे जस के तस बने रहें। यह अजब संयोग है कि ऐसे बयान महिला मंत्रियों की ओर से आ रहे हैं, वे आर एस एस की सदस्य नहीं बन सकतीं, मगर सारे कारनामे वे ही करती हैं जिनसे समाज में सांप्रदायिक नफरत फैले, संविधान के अपमान में उनकी गिरफ्तारी की मांग भी करने में हमारे भद्र समाज को संकोच होता है, क्योंकि हम महिलाओं की इज्जत करते हैं।

अभी मुश्किल से एक साध्वी मंत्री के क्षमा मांग लेने के बाद माहौल पटरी पर आ ही रहा था कि दूसरी साध्वी, सुषमा स्वराज ने गीता को ‘राष्ट्रीय ग्रंथ’ घोषित करने की अपनी मांग एक उत्सव में रख दी। वे यह भूल गयीं कि ईश्वर की सौगंध खा कर उन्होंने यह शपथ ली थी कि वे भारत के संविधान के प्रति वफादार रहेंगी और बिना किसी भेदभाव के और बिना किसी के दबाव में आ कर अपना प्रशासनिक काम करेंगी। मगर यह क्या कर रही हैं सुषमा जी।

                                                                                 For full text please click at Hindi Newsclick